गर्भवती महिलाओं के वैक्सीनेशन को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की नई गाइडलाइंस

नई दिल्ली, 29 जून (ऐजेंसी/सक्षम भारत)। कोरोना से जंग में फिलहाल वैक्सीन ही सबसे बड़ा हथियार साबित हो रहा है। देश दुनिया इस महामारी से जूझ रहा है वहीं इस बीच कई तरह के सवालों के साथ सरकार को कई चुनौतियों का भी सामना करना पड़ रहा है।

एक सवाल यह भी है कि क्या गर्भवती महिलाओं को भी वैक्सीन लगाया जा सकता है। क्योंकि सरकार ने सभी लोगों के लिए कोरोना का टीका लगवाना अनिवार्य किया है। एक यही तरीका है जिससे हम कोरोना को हरा सकता है। गर्भवती महिलाओं को इस विषय पर कई शंकाएं रहती हैं। हालांकि केंद्र सरकार और आईसीएमआर पहले ही साफ कर चुके हैं कि गर्भवती महिलाएं कोविड-19 से बचाव का टीका लगवा सकती है।

अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसको लेकर गाइडलाइंस जारी की है ताकि लोगों के मन से सारे सवाल चलें जाएं। सरकार की गाइडलाइंस में कहा गया है कि कोरोना की वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है और कहा है कि गर्भावस्था से संक्रमण का खतरा नहीं बढ़ता है।

गर्भवती महिलाओं में कोरोना संक्रमण के लक्षण शुरुआती तौर पर मामूली होते हैं, लेकिन कई मामलों में देखा गया कि इसके कारण से उनकी सेहत में अचानक गिरावट आती है और इसका असर उनके गर्भ में पल रहे भ्रूण पर भी हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि गर्भवती महिलाएं अपनी सुरक्षा को लेकर सुनिश्चित हों।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को गर्भवती महिलाओं को कोरोना का टीका लगवाने से जुड़ी गाइडलाइंस जारी कर दीं। इसमें कहा गया है कि वैक्सीन गर्भवतियों के लिए भी सुरक्षित है और उन्हें भी दूसरे लोगों की तरह संक्रमण से बचाती है।

गाइडलाइंस के मुताबिक, वैक्सीनेशन के लिए उन्हें कोविन ऐप पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। वे वैक्सीनेशन सेंटर पर जाकर ऑनसाइट रजिस्ट्रेशन भी करवा सकती हैं। यह सलाह दी जाती है कि सभी गर्भवती महिलाओं वैक्सीन लगवाएं। टीका लगवाने के बाद सभी जरूरी सावधानियां रखें। अब तक ज्यादातर महिलाओं में हल्का संक्रमण ही दिखाई दिया या उनमें लक्षण नहीं दिखे, लेकिन इससे उनकी सेहत पर असर पड़ सकता है।

गाइडलाइंस में गर्भवती महिलाओं को टीका लगवाने की सलाह दी गई है। गाइडलाइंस में कहा, ष्ज्यादातर गर्भवती महिलाएं एसिम्टॉमेटिक होंगी या उन्हें हल्की बीमारी होगी, लेकिन उनका स्वास्थ्य तेजी से बिगड़ सकता है और इससे भ्रूण भी प्रभावित हो सकता है। यह महत्वपूर्ण है कि वे खुद को कोविड -19 से बचाने के लिए सभी सावधानी बरतें, जिसमें कोविड के खिलाफ टीकाकरण भी शामिल है। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि गर्भवती महिला को कोविड-19 के टीके लगवाने चाहिए।ष्

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *