भाषण प्रतियोगिता में छात्राओं ने रखे अपने विचार

सोनीपत, 27 अगस्त (ऐजेंसी/सक्षम भारत)। गीतांजलि सीनियर सेकेंडरी स्कूल, गुरु सदन, बड़वासनी में अंतर सदनीय अंग्रेजी भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें छात्राओं ने ग्लोबल वार्मिंग, प्रदूषण, पर्यावरण संरक्षण, इंटरनेट बून और बैन जैसे विषयों पर प्रभावी तरीके से अपने विचार व्यक्त किए। इसमें न्यूटन सदन ने पहला, भाभा सदन ने दूसरा व आइंस्टीन सदन की टीम ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। इस मौके पर संस्थान के चेयरमैन नरेंद्र सूरा, निदेशक मेहर सिंह आर्य व प्राचार्या ए.शर्मिला ने विजेताओं को पुरस्कृत किया साथ ही छात्राओं का पर्यावरण संरक्षण में अहम भूमिका निभाने के लिए आह्वान भी किया।

नरेंद्र सूरा ने कहा कि उन्होंने कहा कि वृक्षों की अंधाधुंध कटाई व प्राकृतिक संसाधनों के दोहन ने प्राकृतिक असंतुलन की गंभीर चुनौती खड़ी कर दी है। प्रकृति के संतुलन को सिर्फ अधिकाधिक वृक्षारोपण करके ही स्थापित किया जा सकता है। वृक्ष होंगे तो बरसात होगी जिससे जल संकट की समस्या से निपटने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि ग्लोबल वार्मिंग समस्या प्रकृति के असंतुलन ने पैदा की है। भारत की जलवायु चैमास वाली थी, किंतु अब करीब दस माह तक गर्मियों का मौसम रहने लगा है। बेमौसमी बरसात होती है। ऐसे में प्रकृति को संतुलित करने की पुरजोर आवश्यकता है ताकि जल संरक्षण को बढ़ावा मिल सके।

निदेशक मेहर सिंह ने कहा कि जल संरक्षण के लिए वृक्षारोपण बेहद जरूरी है। जलवायु सिस्टम को सुधारने के लिए पौधे लगाकर उनका पूर्ण संरक्षण करना होगा। भाषण प्रतियोगिता में छठी से आठवीं कक्षा तक की छात्राओं ने हिस्सा लिया। आइंस्टीन सदन की साक्षी, भाभा सदन की खुशी, न्यूनटन सदन की नैन्सी व रमन सदन की अनीषा ने अपने विचारों ने उपस्थित अध्यापकों को काफी प्रभावित किया। इस दौरान छात्राओं ने अंग्रेजी भाषा पर अपनी जबर्दस्त पकड़ भी दिखाई। इस मौके पर नर्सिंग की अध्यापिका कृत्तिका व दीपिका ने निर्णायकों की भूमिका अदा की। इस मौके पर डिंपल, रूना, प्रवेश वर्मा आदि अध्यापिकाएं मौजूद रहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *