खेल

एंडरसन ने इंग्लैंड को जीत की दहलीज पर पहुंचाया

चेन्नई, 09 फरवरी (ऐजेंसी/सक्षम भारत)। दुनिया के सबसे सफल तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन की तूफानी गेंदबाजी से इंग्लैंड ने पहले क्रिकेट टेस्ट के पांचवें और अंतिम दिन लंच तक भारत का स्कोर छह विकेट पर 144 रन करके जीत की ओर मजबूत कदम बढ़ाए। इंग्लैंड को अंतिम दो सत्र में जीत के लिए सिर्फ चार विकेट की दरकार है जबकि 420 रन के लक्ष्य का पीछा कर रहा भारत जीत से 276 रन दूर है। भारत की उम्मीदें अब कप्तान विराट कोहली पर टिकी हैं जो 51 गेंद में पांच चैकों की मदद से 45 रन बनाकर खेल रहे हैं जबकि दूसरे छोर पर रविचंद्रन अश्विन दो रन बनाकर उनका साथ निभा रहे हैं। भारत ने सुबह के सत्र में 105 रन जोड़कर पांच विकेट गंवाए। एंडरसन (आठ रन पर तीन विकेट) ने शुभमन गिल (50), अजिंक्य रहाणे (00) और ऋषभ पंत (11) को पवेलियन भेजा। जैक लीच (56 रन पर दो विकेट) ने चेतेश्वर पुजारा (15) जबकि डॉम बेस (50 रन पर एक विकेट) ने वाशिंगटन सुंदर (00) की पारी का अंत किया। गौरतलब है कि इंग्लैंड ही पिछली विदेशी टीम थी जो भारत में आकर टेस्ट श्रृंखला जीतने में सफल रही थी। इंग्लैंड ने 2012-13 में मेंजबान टीम को 2-1 से हराकर यह उपलब्धि हासिल की थी। भारत ने दिन की शुरुआत एक विकेट पर 39 रन से की। सलामी बल्लेबाज गिल शुरुआत से ही अच्छी लय में दिखे। उन्होंने लीच की दिन की दूसरी ही गेंद पर चैका जड़ा लेकिन चेतेश्वर पुजारा (15) ने बायें हाथ के स्पिनर लीच की तेजी से स्पिन होती गेंद पर बल्ले का मुंह लेग साइड की ओर मोड़ दिया और गेंद उनके बल्ले का किनारा लेकर स्लिप में खड़े बेन स्टोक्स के सुरक्षित हाथों में चली गई। गिल ने आफ स्पिनर डॉम बेस को निशाना बनाया और उनके ओवरों में दो चैके और एक छक्का जड़ा। इस युवा प्रतिभावान बल्लेबाज ने लीच पर भी चैका और फिर एक रन के साथ 81 गेंद में अपने करियर का तीसरा अर्धशतक पूरा किया। जो रूट ने इसके बाद गेंद एंडरसन को थमाई जिन्होंने तेजी से अंदर आती दूसरी ही गेंद पर गिल को बोल्ड कर दिया। गिल ने 83 गेंद की अपनी पारी में सात चैके और एक छक्का मारा। एक गेंद बाद एंडरसन ने अजिंक्य रहाणे के खिलाफ पगबाधा की विश्वसनीय अपील की लेकिन अंपायर ने इसे ठुकरा दिया। इंग्लैंड ने डीआरएस का सहारा लिया लेकिन पैड से गेंद टकराते समय अंपायर कॉल आने के कारण वह बच गए। रहाणे हालांकि इसका फायदा नहीं उठाए पाए और अगली ही गेंद पर बोल्ड हो गए। वह खाता भी नहीं खोल पाए। कोहली ने ऋषभ पंत के साथ मिलकर 30वें ओवर में भारत का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया। पंत हालांकि अधिक देर टिक नहीं सके और सिर्फ 11 रन बनाने के बाद एंडरसन की गेंद को शरीर से दूर खेलने की कोशिश में शॉर्ट कवर पर रूट को बेहद आसान कैच दे बैठे। बेस ने पहली पारी में नाबाद 85 रन बनाने वाले वाशिंगटन सुंदर को खाता भी नहीं खोलने दिया। जोस बटलर ने उनका कैच पकड़ा। मैदानी अंपायर ने वाशिंगटन को नॉटआउट करार दिया था लेकिन डीआरएस लेने पर फैसला गेंदबाज के पक्ष में गया। कोहली हालांकि एक छोर पर डटे रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ykhij,lhj,lhi