अमोनिया का स्तर बढ़ने से वजीराबाद, चंद्रावल जल शोधन संयंत्र में काम रूका

नई दिल्ली, 30 सितंबर (ऐजेंसी/सक्षम भारत)। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि अमोनिया का स्तर बढ़ने के कारण दिल्ली के चंद्रवाल और वजीराबाद जल शोधन संयंत्र के संचालन को रोकना पड़ा है। हरियाणा के पानीपत में यमुना नदी में औद्योगिक कचरे को फेंकने के कारण पानी में अमोनिया का स्तर बढ़ा गया है। केजरीवाल दिल्ली जल बोर्ड (डीजीबी) के प्रमुख भी हैं। उन्होंने कहा कि मध्य और उत्तरी दिल्ली के कई हिस्सों में जल सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं और जल बोर्ड स्थिति को जल्द से जल्द बेहतर करने के लिए काम कर रहा है। मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, पानीपत में, यमुना में डाले गए औद्योगिक कचरे की वजह से अमोनिया का स्तर बढ़ा है जिसके कारण चंद्रवाल और वजीराबाद जल शोधन संयंत्र का संचालन रोकना पड़ा। केजरीवाल ने कहा कि वह स्थिति पर करीब से नजर बनाए हैं और डीजीबी से उन्होंने यह सुनिश्चित करने को कहा है कि दिल्ली में कहीं भी पानी की कमी ना हो। भले ही इसके लिए किसी और संयंत्र का पानी वजीराबाद में भेजना पड़े। मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार ने आश्वासन दिया है कि वह जल्द ही नदी में अतिरिक्त पानी छोड़ेंगे ताकि अमोनिया का स्तर कम किया जा सके। डीजीबी ने बताया कि अमोनिया का स्तर बढ़ने के कारण चंद्रवाल संयंत्र की पंपिंग की क्षमता 25 प्रतिशत तक घट गई है। डीजीबी ने कहा कि अमोनिया का स्तर बढ़ने के कारण प्रेसिडेंट एस्टेट, सिविल लाइन्स, करोल बाग, पहाड़गंज, पटेल नगर, शादीपुर, तिमार पुर मलका गंज, आजाद मार्केट, राजेंद्र नगर, एनडीएमसी क्षेत्र, रामलीला मैदान, दिल्ली गेट, सुभाष पार्क, दरियागंज, गुलाबी बाग, जहांगीर पुरी, एपीएमसी, केवल पार्क, एनडीएमसी और आसपास के क्षेत्र में जल आपूर्ति प्रभावित होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *