व्यापार

राजस्थान और अमेरिकी राज्य के बीच ऊर्जा क्षेत्र में आधुनिक तकनीक के आदान-प्रदान का समझौता

जयपुर, 03 सितंबर (ऐजेंसी/सक्षम भारत)। ऊर्जा क्षेत्र में राज्य स्तर पर नवीनतम तकनीक के आदान-प्रदान के लिए राजस्थान सरकार व सयुंक्त राज्य अमेरिका के उटाह राज्य के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर किये गये। इस करार के तहत राज्य स्तरीय नवीनतम पालिसी और अक्षय ऊर्जा स्त्रोतों में तकनीक का आदान-प्रदान होगा। एमओयू पर राजस्थान के ऊर्जा विभाग की तरफ से विशिष्ट शासन सचिव व उटाह राज्य की और से कार्यकारी निदेशक डॉ. लौरा नीलसन ने पिछले सप्ताह हस्ताक्षर किए। राजस्थान ऊर्जा विभाग के प्रमुख शासन सचिव नरेश पाल गंगवार ने बताया कि ऊर्जा क्षेत्र में किस तरह कार्य किया जा रहा है और यह क्षेत्र किन चुनौतियों का सामना कर रहा है। इस क्षेत्र में राजस्थान सरकार क्या कर रही है और किन चुनोतियों का सामना कर रही है। इसके बारे में दोनो राज्यों के प्रतिनिधियों के बीच चर्चा हुई। सहमति ज्ञापन (एमओयू) के तहत नवीकरणीय ऊर्जा के एकीकरण, ऊर्जा भंडारण, इलेक्ट्रिक मोबीलिटी, ट्रांसमिशन नेटवर्क की मजबूती, ऊर्जा दक्षता और पारेषण एवं वितरण नुकसान को कम करने के लिए स्मार्ट तकनीक लागू करना आदि है। उटाह राज्य के गवर्नर के ऊर्जा सलाहकार और उटाह राज्य गवर्नर ऑफिस ऑफ एनर्जी डेवलपमेंट की कार्यकारी निदेशक डॉ लॉरा नेल्सन ने राज्य प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। एक बयान में उन्होंने बताया कि, पिछले चार वर्षों में उटाह राज्य ने अपनी संपन्न अर्थव्यवस्था और उच्च गुणवत्ता के लिए सस्ती विश्वसनीय और स्वच्छ बिजली के विकल्पों को आगे बढ़ाने में अक्षय ऊर्जा में 150 प्रतिशत की वृद्धि का अनुभव किया है। इस अवसर पर प्रमुख शासन सचिव ऊर्जा नरेशपाल गंगवार, राजस्थान राज्य विद्युत प्रसारण निगम के सीएमडी कुंजीलाल मीना, राजस्थान राज्य विद्युत उत्पादन निगम के सीएमडी पी. रमेश, अक्षय ऊर्जा निगम के प्रबन्ध निदेशक अनिल गुप्ता, जयपुर डिस्कॉम के प्रबन्ध निदेशक ए.के.गुप्ता तथा यूएसए के उटाह राज्य की डॉ. लौरा नीलसन, थाड लीवर, पेट ब्राडबेन्ट और प्रोग्राम कार्डिनेटर अफीना अशफाक और सीएसआईएस के डॉ. कार्तिकेय सिंह उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ykhij,lhj,lhi