प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मणिपुर को दी विकास की माला

-1850 करोड़ रुपये की 13 परियोजनाओं का उद्घाटन, 2950 करोड़ रुपये की 9 परियोजनाओं का किया शिलान्यास
-75 करोड़ रुपये की लागत से इंफाल-सिलचर रोड पर बराक नदी पर बने स्टील पुल का किया उद्घाटन

इंफाल, 04 जनवरी (ऐजेंसी/सक्षम भारत)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को यहां 1,850 करोड़ रुपये की 13 परियोजनाओं का उद्घाटन और 2,950 करोड़ रुपये की 9 परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इस दौरान राज्यपाल, मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री समेत राज्य सरकार के मंत्री, स्थानीय विधायक और बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह विकास की मणियां हैं।इनकी माला से अभूतपूर्व विकास होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा है कि इन परियोजनाओं से सड़क, पेयजल, स्वास्थ्य, शहरों, आवास, सूचना और प्रौद्योगिकी, कौशल विकास, उद्योग और संस्कृति आदि के बुनियादी ढांचे में बदलाव होगा। इसके अलावा प्रधानमंत्री ने 1,700 करोड़ रुपये से अधिक की लागत की पांच राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इससे 110 किलोमीटर से अधिक लंबे राजमार्गों का निर्माण होगा।यह परियोजनाएं राज्य में कनेक्टिविटी बढ़ाने में मददगार होंगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने इंफाल से सिलचर (असम के कछार जिला) के बीच बारह माह संपर्क बनाए रखने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग-37 पर 75 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से बराक नदी पर बने स्टील पुल का भी उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री ने मणिपुर की जनता को संचार का तोहफा देते हुए करीब 11,000 करोड़ रुपये की लागत से बने 2,387 मोबाइल टावरों को समर्पित किया। इन टावरों को प्रदेश में मोबाइल कनेक्टिविटी बढ़ाने की दिशा में बड़ा कदम माना जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने हर घर में स्वच्छ पेयजल आपूर्ति योजना के तहत 280 करोड़ रुपये की ‘थोउबल बहुउद्देशीय परियोजना’ का उद्घाटन किया। इस परियोजना से इंफाल शहर को भा पेयजल मिलेगा। मोदी ने 65 करोड़ रुपये की लागत से तामेंगलोंग जल संरक्षण एवं जल आपूर्ति परियोजना का भी उद्घाटन किया। इससे तामेंगलोंग जिला में दस बस्तियों के निवासियों को फिल्टर्ड पेयजल उपलब्ध होगा। उन्होंने सेनापति जिला मुख्यालय में 51 करोड़ रुपये की लागत से जलापूर्ति परियोजना का उद्घाटन किया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वास्थ्य क्षेत्र को मजबूत करने के लिए इंफाल में करीब 160 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले अत्याधुनिक कैंसर अस्पताल का शिलान्यास किया। इसके अलावा प्रधानमंत्री ने राज्य में कोरोना से संबंधित बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए कियामगे में 200 बिस्तरों वाले कोविड अस्पताल का उद्घाटन किया। डीआरडीओ के सहयोग से बने अस्पताल के निर्माण में करीब 37 करोड़ रुपये की लागत आई है।

मोदी ने इंफाल नदी में एकीकृत कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (आईसीसी), ‘पश्चिमी रिवरफ्रंट (चरण-1) के विकास और थंगल बाजार (चरण-1) में माल रोड (चरण-1) का भी उद्घाटन किया। इन परियोजनाओं के लिए 170 करोड़ रुपये से अधिक का बजट तय किया गया है। इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर प्रोजेक्ट से शहर में ट्रैफिक मैनेजमेंट, सॉलिड या ड्राई (सॉलिड) वेस्ट मैनेजमेंट और सर्विलांस समेत कई तरह की तकनीक आधारित सेवाएं मिलेंगी। इस मिशन के तहत पर्यटन और स्थानीय अर्थव्यवस्था जैसी अन्य विकास परियोजनाओं से भी रोजगार के अवसर बढ़ेंगे।

प्रधानमंत्री ने करीब 200 करोड़ रुपये की लागत से सेंटर फॉर इनोवेशन, इनोवेशन, इनक्यूबेशन एंड ट्रेनिंग (सीआईआईटी) का शिलान्यास किया। यह योजना प्रदेश की सबसे बड़ी पीपीपी पहल है। इससे प्रदेश में रोजगार के अवसर पैदा होंगे।

नरेन्द्र मोदी ने मणिपुर इंस्टीट्यूट ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट्स प्रोजेक्ट के निर्माण का भी शिलान्यास किया। यह संस्थान 240 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से तैयार होगा। इससे राज्य की समृद्ध कला और संस्कृति को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। प्रदेश की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को और तेज और मजबूत करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने इंफाल में नवनिर्मित और जीर्णोद्धार गोविंदजी मंदिर का उद्घाटन किया। मोईरंग में आईएनए परिसर का उद्घाटन भी किया।

इसके अलावा ‘सब का साथ, सब का विकास, सब का बिश्वास’ के मंत्र के अनुरूप प्रधानमंत्री ने जन विकास कार्यक्रम के तहत 72 परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इनकी लागत 130 करोड़ रुपये से अधिक है। इन योजनाओं से अल्पसंख्यक समुदायों के समग्र विकास को समर्थन मिलेगा।

प्रधानमंत्री ने राज्य के तांत शिल्प उद्योग को मजबूत करने के लिए 50 करोड़ रुपये की दो परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इनमें इंफाल पूर्वी जिले के नांगपोक कासिंग में ‘मेगा हैंडलूम क्लस्टर’ शामिल है। इससे इंफाल पूर्व जिले के लगभग 17,000 बुनकरों को लाभ होगा। मोइरंग में ‘क्राफ्ट एंड हैंडलूम विलेज’ बनेगा। इससे बुनकर परिवारों की मदद होगी। इन दोनों परियोजनाओं से मोइरंग में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही लोकटक झील से सटे स्थानीय लोगों के लिए रोजगार भी पैदा होंगे।

प्रधानमंत्री ने करीब 390 करोड़ रुपये की लागत से नए चेकने में तैयार होने वाले सरकारी आवास परियोजना का शिलान्यास भी किया। यह एकीकृत आवास कॉलोनी होगी। यहां अत्याधुनिक सुविधाएं होंगी। उन्होंने इंफाल ईस्ट के इबुधु मार्जिंग में रोपवे प्रोजेक्ट का शिलान्यास भी किया। इनके अलावा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जिन अन्य परियोजनाओं का उद्घाटन किया, उनमें शिल्प प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई), कौशल विकास बुनियादी ढांचा (ईएसडीआई) के तहत कंगपोकपी और सूचना एवं जनसंपर्क अधिकार के लिए नया कार्यालय शामिल है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *