कोरियर के जरिये अल्प्राजोलम की अंतरप्रांतीय तस्करी, 15,000 गोलियां बरामद

इंदौर, 01 सितंबर (ऐजेंसी/सक्षम भारत)। दवा के रूप में मेडिकल स्टोरों पर बिकने वाले एक नशीले पदार्थ की कोरियर के जरिये अंतरप्रांतीय तस्करी का भंडाफोड़ करते हुए पुलिस ने रविवार को यहां तीन लोगों को धर दबोचा। अपराध नियंत्रक शाखा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) अमरेंद्र सिंह ने बताया कि आरोपियों की पहचान राधेश्याम यादव (28), मैथ्यू बैनियन (23) और लकी गुप्ता (24) के रूप में हुई है। उन्होंने बताया कि इनके कब्जे से अल्प्राजोलम की 15,000 गोलियां बरामद की गयी हैं। नशे के काले बाजार में इस खेप की कीमत करीब 15 लाख रुपये आंकी जा रही है। एएसपी बताया कि आरोपी फोन पर ऑर्डर बुक करके उत्तरप्रदेश के लखनऊ, कानपुर, मेरठ आदि शहरों से अल्प्राजोलम की गोलियां खरीदते थे। इन्हें कोरियर के जरिये इंदौर मंगाया जाता था। उन्होंने बताया, अल्प्राजोलम की एक गोली का वास्तविक बिक्री मूल्य केवल एक रुपये है। लेकिन गिरफ्तार आरोपी इस गोली को नशेड़ियों को 100 रुपये में अवैध तौर पर बेचते थे। एएसपी ने बताया कि अल्प्राजोलम की गोलियों के पत्तों पर छपे बैच नम्बर के आधार पर गिरोह से जुड़े दवा विक्रेताओं का पता लगाया जा रहा है। मामले में कोरियर कम्पनियों के लोग भी संदेह के घेरे में हैं। पुलिस एनडीपीएस एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज करके विस्तृत जांच में जुटी है। सरकारी कायदों के मुताबिक नियंत्रित मादक पदार्थ अल्प्राजोलम की गोलियों की खुदरा बिक्री लाइसेंसशुदा दवा दुकानों पर डॉक्टर की पर्ची के आधार पर ही की जा सकती है। दवा दुकानों के संचालकों को इस मादक पदार्थ की खरीद और बिक्री का पूरा रिकॅार्ड रखना भी जरूरी होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *