राज्यसभा में उठा इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रसंघ चुनाव बहाल करने का मुद्दा

नई दिल्ली, 03 दिसंबर (ऐजेंसी/सक्षम भारत)। इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय में छात्र संघ चुनाव बहाल किए जाने की मांग शुक्रवार को राज्यसभा में उठी।

समाजवादी पार्टी के विशम्भर प्रसाद निषाद ने शून्यकाल में इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि छात्रसंघ चुनावों पर असंवैधानिक तरीके से रोक लगाई गई है और इसके खिलाफ पिछले करीब 500 दिनों से छात्र आंदोलनरत हैं।

उन्होंने कहा कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय से पढ़कर निकले जनेश्वर मिश्र, मोहन सिंह, गुलजारीलाल नंदा, पूर्व उप राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा, पूर्व प्रधानमंत्री वी पी सिंह व चंद्रशेखर, नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री सूर्य बहादुर थापा सहित कई अन्य लोगों ने राजनीति में एक उल्लेखनीय मुकाम हासिल किया।

उन्होंने कहा, ‘‘मेरी मांग है कि इलाहाबाद छात्रसंघ चुनाव जल्द से जल्द बहाल किए जाएं।’’

सपा नेता रामगोपाल यादव ने निषाद की मांग का समर्थन करते हुए कहा, ‘‘छात्रसंघ चुनाव राजनीतिक नेतृत्व पैदा करने की नर्सरी है और सरकार इसे बंद किए जा रही है।’’

ज्ञात हो कि छात्र राजनीति की नर्सरी कहे जाने वाले इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रसंघ चुनाव बहाल नहीं होने से छात्र नाराज हैं और इस मांग को लेकर अनशन पर हैं। विश्वविद्यालय प्रशासन ने इस पर अभी कोई फैसला नहीं किया है।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *