एचआईएफ ने भारतीय हैंडबॉल के रोडमैप पर विश्व निकाय से की चर्चा

नई दिल्ली, 13 अगस्त (ऐजेंसी/सक्षम भारत)। हैंडबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया (एचएफआई) के कार्यकारी निदेशक आनंदेश्वर पांडे ने 2020 टोक्यो ओलंपिक खेलों के मौके पर अंतर्राष्ट्रीय हैंडबॉल महासंघ (आईएचएफ) के अध्यक्ष हसन मुस्तफा से मुलाकात की और भारत में हैंडबॉल के विकास को बढ़ावा देने के रोडमैप पर चर्चा की।

बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि कैसे आईएचएफ भारतीय हैंडबॉल खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय एक्सपोजर के अवसर प्रदान करा सकता है और स्थानीय कोचों और तकनीकी अधिकारियों को प्रशिक्षित करने के लिए शीर्ष विदेशी कोच और विशेषज्ञों की सेवाएं ले सकता है, जिससे कि उनके कौशल का विकास हो सके।

पांडे ने कहा, आईएचएफ अध्यक्ष के साथ यह एक बहुत ही सार्थक बैठक थी। भारत में हैंडबॉल में हमारे पास इतनी क्षमता है, इसे बस कुछ समर्थन और सही दिशा में ले जाने की जरूरत है। आईएचएफ देश में इस खेल को लोकप्रिय बनाने के लिए हमारा समर्थन करने में बहुत रुचि रखता है। हमने इस बात पर भी चर्चा की कि कैसे आईएचएफ इस खेल को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के हमारे मिशन में हमारी मदद कर सकता है।

हाल के दिनों में भारत में हैंडबॉल ने तेजी से प्रगति की है। विशेष रूप से प्रीमियर हैंडबॉल लीग (पीएचएल) के शुभारंभ के साथ इसमें काफी सुधार आया है। साथ ही साथ जब से इसे भारत सरकार के कार्यक्रम-खेलो इंडिया में शामिल किया गया है, जिससे जमीनी स्तर पर विकास हुआ है और बड़ी संख्या में प्रतिभाशाली खिलाड़ी सामने आए हैं। आईएचएफ ने लीग का समर्थन करने का भी वादा किया, जिससे भारत में हैंडबॉल की प्रगति को बढ़ावा देने और खेल को पेशेवर रूप से लेने के लिए और अधिक खिलाड़ियों को आकर्षित करने की उम्मीद है।

पांडे ने आगे कहा, लीग निश्चित रूप से इस खेल को विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। हमने बैठक के दौरान पीएचएल पर विस्तृत चर्चा की और आईएचएफ हर संभव तरीके से समर्थन करने के लिए तैयार है। यह जानते हुए कि लीग हमें प्रतिभाशाली खिलाड़ियों का एक बड़ा पूल बनाने में मदद करेगी और उन्हें उनके करियर में एक बहुत ही आवश्यक वित्तीय स्थिरता भी देगी।

पीएचएल की शुरूआत के साथ, ब्लूस्पोर्ट एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड जो कि एचएफआई का आधिकारिक लाइसेंस धारक है, का लक्ष्य भारत में हैंडबॉल खेलने के तरीके में क्रांतिकारी बदलाव लाने के साथ-साथ खिलाड़ियों और पूरे खेल इकोसिस्टम के लिए बेहतर वित्तीय स्थिरता सुनिश्चित करना है। पीएचएल पहले से ही राष्ट्रीय महासंघ के साथ काम कर रहा है और देश भर में संभावित प्रतिभाओं को खोजकर और उन्हें अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए एक शानदार मंच प्रदान कर रहा है।

पीएचएल के आधिकारिक लाइसेंसधारी ब्लूस्पोर्ट एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड के अध्यक्ष अभिनव बंथिया ने कहा, हम एचएफआई के साथ लीग को अपना समर्थन देने के लिए आईएचएफ के आभारी हैं। हमारा सपना उच्च गुणवत्ता वाले एथलीट तैयार करना है जो मल्टीनेशनल स्पोटर्स इवेंट्स में भारत का प्रतिनिधित्व कर सकें और पदक जीत सकें। पीएचएल भारतीय हैंडबॉल खिलाड़ियों को खेल में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए आवश्यक समर्थन देने के लिए प्रतिबद्ध है। लीग उन्हें दुनिया के सर्वश्रेष्ठ अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों के खिलाफ कंधे से कंधा मिलाकर चलने का मौका भी देगी। हम देश के हर कोने तक पहुंचने और पीएचएल के माध्यम से इस खेल को लोकप्रिय बनाने की उम्मीद करते हैं। टारगेट ओलंपिक पोडियम (टाप्स) योजना के तहत युवा मामले और खेल मंत्रालय द्वारा हैंडबॉल को प्राथमिकता वाले खेल के रूप में पहचाना गया है और वर्तमान में देश में इसके करीब 80 हजार पंजीकृत खिलाड़ी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *