कोरोना का शक

-सिद्वार्थ शंकर-

-: ऐजेंसी सक्षम भारत :-

कोरोना की उत्पत्ति को लेकर रहस्य गहराता जा रहा है। डेढ़ साल बाद भी दुनिया के वैज्ञानिक यह बताने की स्थिति में नहीं हैं कि विषाणु आखिर निकला कहां से। अब तक की जानकारियां अनुमानों से ज्यादा कुछ नहीं हैं। लेकिन हैरानी की बात यह कि शक की सूई शुरू से चीन की ओर ही है। भले चीन के खिलाफ अब तक कोई ठोस सबूत न मिले हों, लेकिन अमेरिका सहित दुनिया के कई देशों का दावा है कि यह करतूत चीन की है। अमेरिका तो साल भर से चीन के खिलाफ सबूत जुटाने में एड़ी-चोटी का दम लगाए है। अब एक भारतीय विज्ञानी दंपती ने बड़ा दावा किया है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस वुहान की लैब से ही निकला है, किसी वेट मार्केट से नहीं, जैसा कि चीन दुनिया को बताता है। पुणे के रहने वाले विज्ञानी दंपती डॉक्टर राहुल बाहुलिकर और डॉक्टर मोनाली राहलकर ने कहा कि चीन की वुहान लैब से ही कोविड-19 से निकलने के पक्ष में दमदार सबूत मिले हैं। इन दोनों ने पहले भी ऐसा ही दावा किया था। लेकिन तब इनकी दलीलों को साजिश बताकर खारिज कर दिया गया था। अब अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कोरोना वायरस की उत्पत्ति का पता लगाने का आदेश दिया है। ऐसे में एक बार फिर यह मामला सुर्खियों में आ गया है। डॉ. राहलकर ने कहा कि शोध के दौरान उन्होंने पाया कि वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलोजी ने सार्स-कोव-2 परिवार के कोरोना वायरस आरएटीजी12 को दक्षिण चीन के यन्नान प्रांत के मोजियांग स्थित एक माइनशाफ्ट से एकत्र किया था। उस माइनशाफ्ट को साफ करने के लिए छह मजदूरों को भेजा गया था, जहां बड़ी संख्या में चमगादड़ों का घर था। ये मजदूर बाद में न्यूमोनिया जैसी बीमारी से ग्रसित हो गए थे। उन्होंने कहा कि वुहान में डब्ल्यूआइवी और अन्य लैब वायरस पर प्रयोग कर रही थीं। डॉक्टर मोनाली ने आगे कहा कि इसकी संभावना नहीं के बराबर है कि कोरोना वायरस पहले चमगादड़ से किसी इंसान में आया। उसके बाद वेट मार्केट से चारों तरफ फैला। इसके अलावा वायरस की संरचना कुछ ऐसी है कि यह इंसानों को तुरंत संक्रमित करता है और यह इंगित करता है कि यह किसी लैब से आया होगा।

वैसे, सुराग ढूंढने के लिए खुफिया एजेंसियां और जासूस लगे पड़े हैं। ब्रिटेन और कई पश्चिमी देश भी इस मुहिम में अमेरिका के साथ हैं। भारत ने भी कुछ इस तरह समर्थन किया है कि मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। याद किया जाना चाहिए कि पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तो बाकायदा चीन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। लेकिन तब तक उनके पास ऐसा कोई सबूत नहीं था जिससे वे चीन को दबोच पाते। अब वर्तमान राष्ट्रपति जो बाइडेन ने खुफिया एजेंसियों से कहा है कि कोरोना की उत्पत्ति को लेकर तीन महीने के भीतर उन्हें रिपोर्ट दी जाए। सवाल है कि चीन को लेकर ही शक क्यों है? अब तक किसी और देश पर अंगुली क्यों नहीं उठी? शुरू से ही दुनिया के ज्यादातर वैज्ञानिकों और खुफिया एजेंसियों की नजरें वुहान की प्रयोगशाला पर जाकर ही क्यों ठहर जा रही हैं? ये ऐसे सवाल हैं जिनका जवाब आसानी से नहीं मिलने वाला। लेकिन इतना जरूर है कि दुनिया को महाविनाश के खतरे में झोंक देने को लेकर कई देशों में जो गुस्सा उबाल लेता जा रहा है, उससे लगता है कि ठीकरा चीन पर ही फूटना है। पर सवाल है कि आखिर चीन भला ऐसा क्यों करेगा? हालांकि इसके पीछे भी कारणों की कमी नहीं है। विषाणु उत्पत्ति की जांच के मामले में खुद चीन का रवैया भी कम संदेह पैदा नहीं करता। हालांकि भारी दबाव के बाद पिछले साल विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के जांच दल ने वुहान प्रयोगशाला का दौरा किया था। पर डब्ल्यूएचओ ने वुहान की प्रयोगशाला से विषाणु फैलने की बात खारिज कर दी थी। हालांकि डब्ल्यूएचओ को लेकर अमेरिका सहित कई देशों का भरोसा पहले से ही उठ चुका है। इस विश्व संस्था को चीनी एजेंट के रूप में प्रचारित कर दिया गया है। ऐसे में डब्ल्यूएचओ की जांच का कोई मतलब ही नहीं रह जाता। अब जांच इस बिंदु पर आ टिकी है कि वुहान की प्रयोगशाला में काम करने वाले जो वैज्ञानिक बीमार पड़े थे, वे कोरोना विषाणु की चपेट में आए थे और उन्हीं से यह विषाणु बाहर आया और फैला। जो भी हो, विषाणु की उत्पत्ति का रहस्य अंतहीन विषय जैसा है। ढेरों अनसुलझे सवाल हैं। जांच की कडियां हैं। सबके अपने-अपने तर्क और दावे हैं। इसमें कोई दो राय नहीं कि जांच होनी चाहिए, लेकिन विज्ञान जगत का मकसद सिर्फ चीन को घेरने से पूरा नहीं होने वाला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *